Kaam Sudha - Manav Herbal
Sale!

Kaam Sudha

1260

(2 customer reviews)

Product information provided by the seller on the Website is not exhaustive, please read the label on the physical product carefully for complete information provided by the manufacturer.

Description

काम सुधा एक परिचय

सेक्स/काम की कमजोरी होने का मुख्या कारन
पुराने ज़माने के लोग २-२, ३-३ शादियां करके खुश रहते थे, आज के लोग एक को भी नहीं संभल पाते तलाक हो जाती है, कारन आधुनिक जीवनशैली व्यस्त दिनचर्या और अस्वस्थ्य खान पान | सेक्स कमजोरी का एक और सबसे मुख्या वजह होती है बचपन की नादानी में जाने अनजाने में अत्याधिक अपने हाथो का गलत तरीके से इस्तेमाल करना जिसके कारण नसे सिथिल और कमजोर पड़ जाती नसों के द्वारा शरीर के मसाने में गर्मी पैदा हो जाती है धातु/वीर्य काफी हल्का हो जाता है उसमे अत्यधिक पतलापन आ जाती है दिमाग की नियंत्रण कमजोर हो जाता है मन में काफी नकारात्म विचार भर जाती है जीवन हताश निराश लगने लगता है बहुत सारे लोग डर से शादी नहीं करते शादी शुदा लोगो का दांपत्य जीवन निराशाजनक हो जाती है इसमें सबसे मुख्य और बड़ी समस्या होती है शीघ्रपतन की जिसके कारन वो अपने स्त्री पार्टनर को संतुस्ट नहीं कर पाती और खुद को भी शर्मिंदगी महसूस करते है सारे मस्ती सारे अरमान बर्बाद हो जाती है  अगर ये समस्या लम्बे समय तक चलती है तो उसके अंदर नामर्दी की समस्या आने की चांस भी बढ़ जाता है |

काम सुधा काम क्या और कैसे करता है / काम सुधा के फायदे
इन सभी समस्याओं के करने को ध्यान में रखते हुए मानव हर्बल्स फार्मासिस्ट टीम ने कठिन खोज/ रिसर्च  के बाद दुर्लभ जड़ी बूटियों के द्वारा काम सुधा आयुर्वेदिक दवा का निर्माण किया गया है जिसके सेवन से आपके इस तमाम समस्या के कारण को स्टेप बाई  स्टेप  ठीक करता है आपके इन सभी कमजोरी को दूर करता है शरीर में फिर से नया धातु/वीर्य बनता है  जिसकी गुणवत्ता और मात्रा काफी अधिक मात्रा में होती है आपका वीरा काफ़ि गाढा बनता है, आपके अंदर नया जोश नयी ऊर्जा भर देता दिमाग पर पूरा नियंत्रण रहता है जिससे  सेक्स टाइमिंग बढ़ाने में काफी मदद करता है स्तम्भन शक्ति काफी बढ़ जाती है, एक नई आनंद भरी जीवन की शुरुआत हो जाती है

काम सुधा कम्पोजीशन/  काम सुधा को बनाने में उपयोग की गई जाती बूटियां
काम सुधा पैकेज में 150  गम पाउडर और 15  टेबलेट्स होती है
काम सुधा 13 दुर्लभ शुद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों  से तैयार किया गया जो इस प्रकार है
पाउडर के अंदर जड़ी बूटियां :- गोक्षुरा, अश्वगंधा, सफेदमूसली, सतवारी, शुद्धशिलाजित, कौंचबीज, ब्राहमी, अकरकरा, जिंजर, जायफल और दालचीनी

गोखरू क्या है

गोक्षुर या गोखरू वातपित्त, सूजन, दर्द को कम करने में सहायता करने के साथ-साथ, रक्त-पित्त(नाक-कान से खून बहना) से राहत दिलाने वाला, कफ दूर करने वाला, मूत्राशय संबंधी रोगों में लाभकारी, शक्तिवर्द्धक और स्वादिष्ट होता है। गोक्षुर का बीज ठंडे तासीर का होता है। इसके सेवन से मूत्र अगर कम हो रहा है वह समस्या दूर हो जाती है।

गोखरू के फायदे: गोखरू व्यक्ति को शारीरिक रूप से फिट रखने में मदद करता है। इससे शरीर मजबूत होता है और यौन शक्ति में इजाफा होता है। स्पर्म की गुणवत्ता बढ़ती है, जिस वजह से इसे पुरूषों के लिए किसी वरदान से कम नहीं माना जाता है। इसके सेवन से सेक्सुल डिसऑर्डर और इंफर्टीलिटी की समस्याएं दूर होती हैं

अश्वगंधा  क्या है

अश्वगंधा वाइट ब्लड सेल्स और रेड ब्लड सेल्स दोनों को बढ़ाने का काम करता है। जो कई गंभीर शारीरिक समस्याओं में लाभदायक है। -अश्वगंधा मानसिक तनाव जैसी गंभीर समस्या को ठीक करने में लाभदायक है। एक रिर्पोट के अनुसार तनाव को 70 फिसदी तक अश्वगंधा के इस्तेमाल से कम किया जा सकता है।
अश्वगंधा  के फायदे: जो आपको सर्दी-जुकाम जैसी बीमारियों से लडने की शक्ति प्रदान करता है। अश्वगंधा वाइट ब्लड सेल्स और रेड ब्लड सेल्स दोनों को बढ़ाने का काम करता है। जो कई गंभीर शारीरिक समस्याओं में लाभदायक है। -अश्वगंधा मानसिक तनाव जैसी गंभीर समस्या को ठीक करने में लाभदायक है।

सफेद मूसली क्या है

सफेद मूसली (safed musli) एक ऐसी शक्तिवर्धक जड़ी-बूटी है जिसका मुख्य इस्तेमाल सेक्स पावर बढ़ाने के लिए किया जाता है। सफेद मूसली के फायदे (safed musli ke fayde) सिर्फ सेक्स क्षमता बढ़ाने तक ही सीमित नहीं है बल्कि यह गठिया, डायबिटीज, यूटीआई आदि बीमारियों को दूर करने में भी उपयोगी है।

सफेद मूसली के फायदे: सेक्स पावर बढ़ाने में उपयोगी (Safed musli for sex stamina) :

  • शीघ्रपतन रोकने में उपयोगी (safed musli for premature ejaculation) : …
  • इरेक्टाइल डिसफंक्शन (safed musli for erectile dysfunction) : …
  • नपुंसकता से बचाव (safed musli for impotence):

कौंच के बीज  क्या है ?   

कौंच के बीज में प्रोलैक्टिन नामक एक हार्मोन पाया जाता है। ये प्रोलैक्टिन प्रजनन, चयापचय और इंम्यूरेग्यूलेटरी कार्यों के लिए फायदेमंद होता है। ये टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन करता है। इससे पुरुषों की शारीरिक क्षमता बढाती बढाती है। कौंच के बीज में मौजूद पोषक तत्व पिता बनने की अक्षमता को दूर करने के लिए भी कारगर है

  • कौंच के बीज में प्रोलैक्टिन नामक एक हार्मोन पाया जाता है। …
  • कौंच के बीज के नियमित सेवन से थकान एवं शारीरिक कमजोरी दूर होती है। .
  • कौंच के बीज खाने से पीनियल गंथि पर सक्रिय होती है। …
  • इसमें डोपामाइन की बहुत अधिक मात्रा होती है।

शिलाजीत क्या है

शिलाजीत हिमालय और हिंदुकुश पर्वतमाला से प्राप्त किया जाने वाला एक प्राकृतिक खनिज पदार्थ है। … पुरुषों की अंदरुनी ताकत और यौन स्वास्थ्य के लिए शिलाजीत रामबाण इलाज माना गया है। शुद्ध शिलाजीत का सेवन (Shilajit Benefits) करना पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं को भी अद्वितीय फायदे पहुंचाता है।

शिलाजीत के फायदे:

  • पुरुषों के टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन में सुधार पुरुषों के लिए टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन काफी जरूरी होता है।
  • शिलाजीत के फायदे- एनीमिया की समस्या शरीर में खून की कमी को एनीमिया की समस्या कहा जाता है। …

पेशाब संबंधित समस्याएं 

  • स्वास्थ्य के लिए शिलाजीत- जोड़ों के दर्द से राहत
  • दिमाग को तेज रखता है

ब्राह्मी क्या है

ब्राह्मी अनुग्रह की जड़ी बूटी के रूप में जाना जाता है, यह एक चमत्कारी घटक है, जिसका उपयोग बालों के लिए करने पर अद्भुत नतीजे दिखते हैं। इसकी जड़ें, पत्तियां और फूलों सहित पूरा पौधा ही औषधीय गुणों से भरपूर होते है। ब्राह्मी स्वास्थ्य लाभों के अनूठे फायदों से भरपूर होता है, लेकिन बालों के लिए भी गुण फायदा पहुंचाते हैं।

Brahmi Benefits: बालों का झड़ना रोकने से लेकर मज़बूत-घने बालों तक, ऐसे हैं ब्राह्मी के ग़ज़ब के फायदे

  1. दो मुंहे बालों से बचाता है
  2. गंजेपन से बचाता है
  3. रूसी से छुटकारा
  4. बालों का झड़ना कम करता है
  5. सिर की त्वचा को करता है साफ
  6. तनाव भी करता है दूर
  7. बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है

शतावरी क्या हैं

शतावरी आयुर्वदिक जड़ीबूटी है और यह लिली परिवार से जुडी औषधीय मानी जाती है। पुरे दुनिया में शतावरी जड़ीबूटी अपने गुणों के लिए प्रसिद्ध है। शतावरी पौधे के हर भाग का उपयोग औषधीय बनाने में किया जाता है। हालांकि शतावरी तीन रंगो में पाया जाता है जिनमे सफ़ेद, हरा और बैगनी शामिल है। शतावरी के उपयोग बहुत से स्वास्थ्य संबंधित समस्या को ठीक करने के लिए किया जाता है। आइए आगे शतावरी के फायदों के बारे में जानकारी देंगे।

शतावरी के फायदे

शतावरी में दही की तरह प्रोबायोटिक गुण होता है जो पाचन स्वास्थ्य को स्वस्थ रखता है। शतावरी में मौजूद घटक भोजन के पोषक तत्व को अवशोषित करने में मदद करता है। इसके अलावा शतावरी में फाइबर मौजूद होता है जो कब्ज की समस्या को होने नहीं देता है। अगर आप पाचन तंत्र की समस्या से परेशान है तो शतावरी चूर्ण का उपयोग जरूर करें।

अकरकरा क्या हैं

अकरकरा के फायदे सिरदर्द से राहत दिलाने में बहुत मदद करता है। अकरकरा की जड़ या फूल को पीसकर, हल्का गर्म करके ललाट (मस्तक) पर लेप करने से मस्तक का दर्द कम होता है। इसके अलावा इसके प्रयोग से मुख की दुर्गंध भी दूर हो जाती है, एक बार के प्रयोग के लिए एक फूल या थोड़ा कम पर्याप्त होता है।

अकरकरा के फायदे: पीरियड्स के दर्द से राहत दिलाने में अकरकरा के काढ़े का सेवन लाभदायक होता है पेट की तकलीफों से बचने के लिए भी ये जड़ी बूटी फायदेमंद साबित होती है

  • अगर किसी को मिर्गी की बीमारी है तो उन्हें अकरकरा, शंखपुष्पी, मास्टिक गम और शहद मिलाकर सेवन करें।
  • महुआ के तेल के साथ अकरकरा की जड़ों को पीसकर मालिश करने से लकवा ठीक हो जाता है।

अदरक क्या हैं

अदरक का इस्तेमाल अधिकतर भोजन के बनाने के दौरान किया जाता है। अक्सर सर्दियों में लोगों को खांसी-जुकाम की परेशानी हो जाती है जिसमें अदरक प्रयोग बेहद ही कारगर माना जाता है। यह अरूची और हृदय रोगों में भी फायदेमंद है। इसके अलावा भी अदरक कई और बीमारियों के लिए भी फ़ायदेमंद मानी गई है।

अदरक के फायदे : इसका नियमित सेवन करने से पाचन शक्ति दुरुस्त रहती है। 0 अदरक का नियमित सेवन माइग्रेन के दर्द को कम करता है। 0 पीरियड के दौरान पेट में होने वाली ऐंठन में ब्राउन शुगर और अदरक की चाय पीने से आराम मिलता है। 0 शुगर की शिकायत वाले व्यक्ति अगर नियमित तौर पर अदरक का सेवन करें तो किडनी के नुकसान की आशंका काफी कम हो जाती है।

जायफल क्या हैं

मिरिस्टिका वृक्ष के बीज को जायफल कहते हैं। इस वृक्ष का फल छोटी नाशपाती के रूप का एक इंच से डेढ़ इंच तक लंबा, हल्के लाल या पीले रंग का गूदेदार होता है। पकने पर फल दो खंडों में फट जाता है और भीतर सिंदूरी रंग की जावित्री दिखाई देने लगती है।

जायफल के फायदे:

  • दस्त व मुहांसों में भी फायदेमंद जायफल घिसकर उस पानी का सेवन करें व नाभि पर लेप लगाने से दस्त आने बन्द हो जाते हैं। …
  • पाचन तंत्र
  • सर्दी-खांसी
  • सिर दर्द
  • सर्दी से सुरक्षा
  • बढ़ाए भूख
  • दस्त और पेट दर्द
  • प्रसव बाद कमर दर्द में फायदा

दालचीनी क्या हैं

दालचीनी  एक छोटा सदाबहार पेड़ है, जो कि 10–15 मी (32.8–49.2 फीट) ऊंचा होता है, यह लौरेसिई (Lauraceae) परिवार का है। यह श्रीलंका एवं दक्षिण भारत में बहुतायत में मिलता है। इसकी छाल मसाले की तरह प्रयोग होती है।
दालचीनी के फायदे: दिल की बीमारियों को दूर रखती है दालचीनी, जानिए इसके 10 और फायदे

  • ब्लड शुगर लेवल को कम करती है
  • फंगल इंफेक्शन दूर करने में
  • एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर
  • एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं
  • औषधीय गुण होते हैं
  • सर्दी-जुकाम दूर करने में
  • जोड़ों का दर्द दूर करने में
  • पाचन को बेहतर बनाती है

कोकिलाक्ष क्या हैं ?  

कोकिलाक्ष (Kokilaksha) को तालमखाना कहते हैं। सामान्य तौर पर इसके बीज का प्रयोग आयुर्वेद में किया जाता है। ये एक तरह का कंटीला पौधा होता है जो नदी, तालाब के किनारे गीली मिट्टी में उगता है। इसके बीजों का इस्तेमाल सबसे ज्यादा यौन संबंधी समस्याओं के लिए किया जाता है।

कोकिलाक्ष के फायदे: कोकिलाक्ष के पत्ते मधुर, कड़वे तथा शोफ (Dropsy), शूल या दर्द, विष, खाने की कम इच्छा, पेट संबंधी रोग, पाण्डु या पीलिया रोग, विबंध या कब्ज, मूत्ररोग नाशक तथा वात कम करने वाले होते हैं। तालमखाने की जड़ शीतल, दर्दनिवारक या दर्द कम करने वाला, मूत्रल तथा बलकारक होती है।

उटंगन क्या है

उटंगन के पौधे नमी वाली ठंडी जगहों पर नदी के किनारे उत्पन्न होते हैं। इसकी पत्तियां गुच्छों में उगती हैं जो किनारों पर दांतेदार एवं कांटेदार होती हैं। उटंगन की पत्तियों की सब्जी बनाकर खाई जाती है और विशेषज्ञों का मानना है कि इसकी पत्तियों की सब्जी खाने से अच्छी नींद आती है।

उटंगन के फायदे: सांसो से जुड़े रोगों में फायदेमंद है उटंगन (Utangan Benefits for Respiratory Diseases in Hindi) अगर आप सांस से संबंधित बीमारियों से परेशान हैं तो उटंगन का उपयोग करना आपके लिए फायदेमंद है। इसके लिए 1-2 ग्राम उटिंगन के बीजों का सेवन करें या इन बीजों को पीसकर छाती पर लगाएं। इसे छाती पर लगाने से खांसी से भी आराम मिलता है।

काम सुधा सेवन करने/खाने का तरीका/काम सुधा खुराक
एक गिलास दूध में एक चाय चमच के बराबर मात्रा में काम सुधा पाउडर सुबह शाम खाना खाने के आधे घंटे बाद
दूध नहीं रहने की इस्थिति में एक कप/आधे गिलास गुनगुने पानी के साथ ले सकते है |

काम सुधा साइड  इफ़ेक्ट
जैसा की ऊपर बताया जा चूका है की मानव हर्बल्स 100% विशुद्ध सबसे उच्च कोटि के गुणवत्ता वाली आयुर्वेदिक दवाई के लिए ही काम करती है और हिंदुस्तान का बच्चा-बच्चा जनता है कि इस तरह की शुद्ध आयुर्वेदिक दवाइयां को उचित मात्रा में एक्सपर्ट कि सलाह में लेने से कोई भी नुकसान या दुष्प्रभाव नहीं करती है | हालाँकि मार्केट में बहुत सारेकंपनियां आयुर्वेद के नाम पर बड़े बड़े बाते और दावे करके अपनी जेब भरने के चाकर में एलोपैतिक   और Steoride मिलाकर बेचते है   जिसके वजह से लोगो आयुर्वेद पर भी कभी कभी कन्फ्यूज्ड हो जाते है/ जो लोग अच्छा काम कर रहे है उनपर भी शक करते है

आखिर पुरुसो में ये कमजोरी हमेशा क्यों बनी रहती है
१) आधुनिक जीवनशैली ब्यस्त दिनचर्या और बीमारु खानपान
२) उचित भोजन/पोषण ना लेना और नसा करना
३) बचपन के समय अत्यधिक हस्तमैथुन किया हो
४) शारीरिक व्यायाम की कमी
५) डिप्रेशन या नींद ना आने की समस्या
६) अधिक मेडिकल स्टोर/मार्किट से तरह तरह की दवाई का सेवन करना
ये कुछ बेसिक कारन है जिसके वजह से पुरुसो में ये समस्या हमेशा बानी रहती है

मरदाना कमजोरी को हमेशा दूर कैसे रखे?
1) इस समस्या का जो भी कारन ऊपर बताये  गए उससे हमेशा दूर रहे
2) हमेशा अपने सेहत के प्रति सीरियस रहे इसके लिए नियमित स्वास्थ्यवर्धक खान पान और एक्सरसाइज का खास धयान रखे
3) अपने भोजन में दूध और कोई भी मेवे  का नियमित सेवन  करें
4) रोज आधे से एक घंटे योगा  और व्यायाम के लिए समय जरूर निकले
5) 8 घंटे का अच्छी गहरी नींद जरूर लें

काम सुधा कौन कौन ले सकता है ?
काम सुधा आयुर्वेदिक दवा को 18 -65  साल के कोई भी पुरुष जिसको शारीरिक और मानसिककमजोरी है, बचपन में ज्यादा हाथ चलने कि वजह से धातु वीर्य काफी पतला और कमजोर हो गया है शीघ्रपतन कीसमस्या से परेशां है तनाव की कमी है एक बार करने के बाद दुबारा इच्छा नहीं करता है स्टेमिना और जोश की कमी है | इसके अलावा नार्मल इंसान जो अपनी स्टेमिना और बूस्ट करना चाहते है मरदाना ताकत को और ज्यादा बढ़ाना चाहते वो सभी ले सकते  है सिर्फ कोई भी  गंभीर बीमारी वाले को लेने कि अनुमति/सलाह नहीं है

काम सुधा मंगवाने का तरीका
स्क्रीन पर दिख रहे नंबर प् कॉल या व्हाट्सप्प करके,
या Book Now  पर क्लिक करके इसका आर्डर कर सकते है |

Book Now

English Description

Kama Sudha An Introduction
The main reason for having weakness of sex / work
In olden days people used to be happy doing 2-2,3-3 marriages, today’s people can’t handle even one gets divorced, due to modern lifestyle busy routine and unhealthy eating habits.

What and how does Kama Sudha work/ Benefits of Kama Sudha
Keeping all these problems in mind, Manav Herbals Pharmacist team after hard search/research has created Kama Sudha Ayurvedic medicine by using rare herbs, which helps to cure all your problems step by step. It removes all these weaknesses of your body, new metal / semen is formed again in the body, whose quality and quantity is very high. Due to which sex helps a lot in increasing the timing, the erectile power increases a lot, a new blissful life begins.

Kama Sudha Composition / Herbs used to make Kama Sudha
Kama Sudha package contains 150 gum powder and 30 tablets
Kama Sudha is prepared from 13 rare pure Ayurvedic herbs which are as follows
Herbs inside the powder: Gokshura, Ashwagandha, Safed Musli, Satwari, Shuddhashilajit, Kaunchbeej, Brahmi, Akarkara, Ginger, Nutmeg and Cinnamon

What is bunion?

Gokshura or gokhru helps in reducing vatapitta, swelling, pain, relieves blood-pitta (bleeding from nose-ear), removes phlegm, is beneficial in urinary diseases, is potent and tasty. Is. Gokshur seed is of cold effect. If urine is decreasing by its consumption, that problem goes away.

Benefits of Buckwheat: Buckwheat helps in keeping a person physically fit. This strengthens the body and increases sexual power. The quality of sperm increases, due to which it is considered no less than a boon for men. Its consumption removes the problems of sexual disorder and infertility.

What is Ashwagandha? 

Ashwagandha works to increase both white blood cells and red blood cells. Which is beneficial in many serious physical problems. Ashwagandha is beneficial in curing serious problems like mental stress. According to a report, the use of Ashwagandha can reduce stress by up to 70 percent.
Benefits of Ashwagandha: Which gives you the power to fight against diseases like cold and cold. Ashwagandha works to increase both white blood cells and red blood cells. Which is beneficial in many serious physical problems. Ashwagandha is beneficial in curing serious problems like mental stress.

What is Safed Musli? 

Safed musli is such a powerful herb that is mainly used to increase sex power. The benefits of safe musli are not only limited to increasing sex ability but it is also useful in curing diseases like arthritis, diabetes, UTI etc.
Benefits of Safed Musli: Useful in increasing sex power (Safe musli for sex stamina):
Useful in preventing premature ejaculation (safe musli for premature ejaculation)
Safe musli for erectile dysfunction
Safed musli for impotence

What is Kaunch Seed? 

A hormone called prolactin is found in Kaunch seeds. This prolactin is beneficial for reproductive, metabolic and immunoregulatory functions. It produces testosterone. It increases the physical capacity of men.
Nutrients present in Kaunch seeds are also effective in removing the inability to become a father.
A hormone called prolactin is found in Kaunch seeds. …
Fatigue and physical weakness are removed by regular consumption of Kaunch seeds. .
By eating the seeds of Kaunch, the pineal gland is activated. …
It contains a high amount of dopamine.

What is Shilajit?   

Shilajit is a natural mineral obtained from the Himalaya and Hindukush ranges. Shilajit is considered a panacea for men’s inner strength and sexual health. Consuming pure Shilajit (Shilajit Benefits) brings unique benefits to men as well as women.

Benefits of Shilajit: 

Improvement in the testosterone hormone of men Testosterone hormone is very important for men.
Problem of Anemia Lack of blood in the body is called the problem of anemia. …
Urine related problems…
Shilajit for health – Relief from joint pain keeps the mind sharp

What is Brahmi? 

Brahmi Known as the herb of grace, it is a miraculous ingredient that has been shown to have amazing results when used for hair. The entire plant including its roots, leaves and flowers are full of medicinal properties. Brahmi is packed with unique benefits of health benefits, but also has beneficial properties for hair.

Brahmi Benefits: From preventing hair fall to strong thick hair, here are the amazing benefits of Brahmi
Protects from split ends
Prevents baldness
get rid of dandruff
Reduces hair fall
Cleanses the scalp
Also removes stress
Promotes hair health

What are asparagus? 

Shatavari is an Ayurvedic herb and is considered medicinal belonging to the lily family. Shatavari herb is famous for its properties all over the world. Every part of the Shatavari plant is used for medicinal purposes. However, asparagus is found in three colors, which include white, green and violet. Shatavari is used to cure many health related problems. Let us further give information about the benefits of Shatavari.

Benefits of Asparagus: Shatavari has probiotic properties like curd which keeps the digestive health healthy. The component present in Shatavari helps in absorbing the nutrients of the food. Apart from this, fiber is present in asparagus which does not allow the problem of constipation to occur. If you are troubled by the problem of digestive system, then definitely use Shatavari powder.

What are akarkaras? 

Benefits of Akarkara It helps a lot in relieving headache. Grind the root or flower of akarkara, heat it lightly and apply it on the forehead, it ends headache. Apart from this, the odor of the mouth is also removed by its use, for one-time use, one flower or a little less is enough.

Benefits of Akarkara: Consumption of akarkara decoction is beneficial in relieving the pain of periods, this herb also proves beneficial to avoid stomach problems.
If someone has epilepsy, then mix them with akarkara, conchpushpi, mastic gum and honey.
Massaging the roots of Akarkara with Mahua oil, cures paralysis.

What are Ginger? 

Ginger is mostly used in the preparation of food. Often people suffer from cough and cold in winter, in which the use of ginger is considered very effective. It is also beneficial in anorexia and heart diseases. Apart from this, ginger is also considered beneficial for many other diseases.
Benefits of ginger: By consuming it regularly, the digestive power remains healthy. Regular consumption of ginger reduces the pain of migraine. Drinking brown sugar and ginger tea provides relief in stomach cramps during periods. If a person with sugar complaints regularly consumes ginger, then the chances of kidney damage are greatly reduced.

What are Nutmeg? 

The seeds of the Myristica tree are called nutmeg. The fruit of this tree is in the form of a small pear, one inch to one and a half inches long, light red or yellowish fleshy. On ripening, the fruit splits into two segments and a vermilion-coloured mace appears inside.

Benefits of nutmeg: Grind nutmeg beneficial in diarrhea and acne also, consume that water and by applying the paste on the navel, diarrhea stops. Digestive System …
cold cough …
Headache …
Winter protection…
Increase appetite…
Diarrhea and abdominal pain…
Benefit in back pain after delivery

What is Cinnamon?   

Cinnamon is a small evergreen tree, growing to 10–15 m (32.8–49.2 ft) tall, of the family Lauraceae. It is found in abundance in Sri Lanka and South India. Its bark is used as a spice.

Benefits of cinnamon: Benefits of Cinnamon: Cinnamon keeps heart diseases away, know its 10 more benefits:
Lowers blood sugar level
In treating fungal infections
Rich in Antioxidants
Has anti-inflammatory properties
Has medicinal properties
To cure cold and flu
To relieve joint pain
Improves Digestion

What are Kokilaksha?  

Kokilaksha is called Talamkhana. Generally its seeds are used in Ayurveda. It is a kind of thorny plant that grows in wet soil on the banks of river, pond. Its seeds are most commonly used for sexual problems.

Benefits of Kokilaksh: Kokilaksh leaves are sweet, bitter and have edema (dropsy), colic or pain, poison, less desire to eat, stomach related diseases, pandu or jaundice disease, visceral or constipation, diuretic and vata reducer. The root of Talmakhana is cooling, analgesic or reducing pain, diuretic and strong.

What is Utangan? 

Utangan plants grow on the banks of the river in cool places with moisture. Its leaves grow in clusters which are toothed and prickly at the edges. The leaves of Utangan are eaten as a vegetable and experts believe that eating the vegetable of its leaves leads to good sleep.

Benefits of Utangan: Utangan Benefits for Respiratory Diseases in Hindi If you are troubled by respiratory diseases, then using Utangan is beneficial for you. For this, take 1-2 grams of Uttingan seeds or grind these seeds and apply it on the chest. Applying it on the chest also provides relief from cough.

Kama Sudha Dosage
Kama Sudha powder in a glass of milk, equal to one tea spoon, half an hour after having food in the morning and evening.
In case of no milk, one cup/half glass can be taken with lukewarm water.

Kama Sudha Side Effects
As mentioned above, Manav Herbals works only for 100% pure top quality ayurvedic medicine and every child of India knows that such pure ayurvedic medicines should be taken in proper quantity under expert advice. Does not cause any harm or side effect by taking. However, many companies in the market sell allopathic and Steoride in the name of Ayurveda by making big claims and claims to fill their pockets, due to which people sometimes get confused on Ayurveda also / even those who are doing good work. doubt

After all, why does this weakness always persist in men?
1) Modern lifestyle, busy routine and sick food
2) Not taking proper food/nutrition and drinking
3) Masturbated excessively during childhood
4) Lack of physical exercise
5) Depression or trouble sleeping
6) Consuming different types of medicines from more medical stores/markets
These are some basic reasons due to which this problem always remains in men.

How to always keep masculine weakness away?
1) Whatever the reason for this problem, always stay away from the above mentioned
2) To always be serious about your health, take special care of regular healthy diet and exercise.
3) Regularly consume milk and any dry fruits in your food.
4) Make time for half an hour of yoga and exercise every day.
5) Take good sound sleep of 8 hours

Who can take the job?
Kama Sudha Ayurvedic medicine is given to any male of 18-65  years of age who has physical and mental weakness, due to excessive hand movement in childhood, the dhatu semen has become very thin and weak, is troubled by the problem of premature ejaculation, there is a lack of tension after doing it once. Doesn’t wish again, lacks stamina and enthusiasm. Apart from this, normal people who want to boost their stamina and want to increase their masculine strength more, they can take all, only anyone, there is no permission/advice to take those with serious illness.

How to get job
By calling or whatsapp the number shown on the screen,
Or you can order it by clicking on Book Now.

Book Now

2 reviews for Kaam Sudha

  1. Karan yadav

    This is real Ayurveda, I use it for 3 months and only and I felt a amazing energy without any harm.

  2. Naveen

    Very good Product

Add a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *