SEHAT SULTAAN/सेहत सुल्तान - Manav Herbal
Sale!

SEHAT SULTAAN/सेहत सुल्तान

870

Sehat Sultaan contains several natural ingredients that are proven to gain weight naturally. It is a revolutionary herbal formulation made of powerful herbs that improve appetite by enhancing the metabolism of the body.

Description

सेहत सुल्तान एक परिचय

सेहत कमजोर होने का मुख्य कारण

समय के साथ अगर व्यक्ति के शरीर का पूरा विकाश नहीं होता तो चिंताएं और बढ़ जाती है  सेहत का फिक्र होने लगता  खास कर उनको और ज्यादा जो बचपन से दुबले पतले होते है सेहत सुल्तान उन दुबले पतले  लोगो के लिए बहुत हीं खास है जो अपना वजन और पर्सनालिटी बढ़ाने के लिए काफी प्रयास कर चुके है बहुत सारे उपाय और डाइट को पहले से फॉलो कर रहे  है या करने के बाद भी आपका वजन नहीं बढ़ रहा है या कोई प्रोडक्ट या सप्लीमेंट्स खा चुके है वजन बढ़ाने के लिए और वजन बढ़ने के बाद फिर से दुबारा गिर जाता है | है तो  ये सभी समस्याएं  पाचन और इम्मुनिटीकमजोर होने के कारन होता है और पाचन और इम्युनिटी ख़राब होने का मुख्या कारन है आधुनिक जीवनशैली और खान पान | पुराने ज़माने के लोगों का सेहत इतना कमजोर नहीं होता था क्यूंकि उनका पूरा खान पान और जीवन शैली प्राकृति के अनुकूल होता था आधुनिक जीवनशैली और खान पान  के  वजह से आपके वजन बढ़ने का सभी प्रयास बेकार हो जाती है, जानकारी के आभाव में लोग तरह तरह के मार्केट की दवाई और सप्लीमेंट्स यूज़ करने लगते जिसके कारन ये समस्या और जटिल हो जाती है, इन सभी कारणों से पूरा पाचन सिथिल और कमजोर हो जाती है पेट में गैस कब्ज़, हमेशा पेट खराब रहने लगता  कुछ भी खाया पिया हुआ भोजन का रास शरीर मिल नहीं पता कुछ भी ताकत वाली चीज़ें खाने के बाद उसका उल्टा रिजल्ट मिलता है, शरीर दुबला पतला कमजोर दीखता है हर हमेशा आस पास के लोग मजाक बनाते रहते है जॉब करियर में बाधा बन जाती है |तो इन तमाम समस्यायों के होने के कारणों को ध्यान में रखते हुए मानव हर्बल्स के फार्मेसिस्ट टीम ने मिलकर रिसर्च के द्वारा सेहत सुल्तान को बनाया है

सेहत सुल्तान काम कैसे करता है

इसके सेवन से पुरे हाज़मे के सभी त्रुटिओं को दूर करके खाये गए भोजन के सभी पोषक्तत्वो  शरीर  को मिलने लगता है नया खून बनता है ताकत बढ़ती  है वजन बढ़ता है और पर्सनालिटी निखार जाती है

                                                                                                   
सेहत सुल्तान घटक (इंग्रेडिएंट्स  ) इस प्रकार हैंः

अश्वगंधा   

आयुर्वेद में उपचार के लिए अश्वगंधा का उपयोग आज कोई नया नहीं है यह प्राचीन काल से ही उपयोग में आ रहा है यह एक बहुत ही कारगर औषधि है. बीते कई हजारों साल  से अश्वगंधा का उपयोग कई गंभीर बीमारियों के लिए किया जाता रहा है. आयुर्वेद के विशेषज्ञों ने अश्वगंधा के बारे में बताते हुई कई ऐसी जानकारियां दी हैं जिसका पता शायद ही किसी को हो. अश्वगंधा का इस्तेमाल कई शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है.

अश्वगंधा  के फायदे : अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट, लीवर टॉनिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल के साथ-साथ और भी कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं जो आपकी बॉडी को हेल्दीं रखने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें एंटी-स्ट्रेस गुण भी होते है जो स्ट्रेस फ्री करने में मदद करते है। इसके अलावा इसे घी या दूध के साथ मिलाकर सेवन करने से वजन तेजी से बढ़ाने में मदद करती है | साथ ही कोलेस्ट्रॉल , मधुमेह और कैंसर से भी बचाव करता है |

सफेद मूसली  (800 mg)

सफेद मूसली (safed musli) को शक्तिवर्द्धक जड़ी बूटी माना जाता है, इसलिए आयुर्वेद में औषधि के रूप में इसका बहुत इस्तेमाल किया जाता है। सफेद मूसली की जड़ और बीज, विशेष रूप से औषधि के रूप में बहुत फायदेमंद होते हैं। इसकी जड़ों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम आदि अत्यधिक मात्रा में पाए जाते हैं।

स्वेत मूसली के फायदे: आमतौर पर सफेद मूसली का उपयोग सेक्स संबंधी समस्याओं के लिए अधिक होता है लेकिन इसके अलावा सफेद मूसली का इस्तेमाल आर्थराइटिस, कैंसर, मधुमेह (डायबिटीज),नपुंसकता आदि रोगों के इलाज में और शारीरिक कमजोरी दूर करने में भी प्रमुखता से किया जाता है। कमजोरी दूर करने की यह सबसे प्रचलित आयुर्वेदिक औषधि है। इसके जड़ों  में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, सैपोनिंस जैसे पोषक तत्व और कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम आदि खनिज प्रमुखता से पाए जाते हैं।

ओट्स (1600 mg)

ओट्स एक प्रजाति का अनाज है। जो बीजो की तरह होती है जिसे दलिया भी कहा जाता है। पहले ओट्स को केवल जानवर खाते थे। लेकिन कुछ सालो में ओट्स पर वैज्ञानिको द्वारा परीक्षण कर खाने योग्य बनाया गया।उपलब्ध जरूरी पोषक तत्वों में फाइबर, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी 6, प्रोटीन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, सेलेनियम इत्यादि हैं। इसमें उच्च मात्रा में फाइबर होता है जो आसानी से पानी में घुलनशील हो जाता है। यह पेट को आसानी से भर देता है। जिसके कारण भूख जल्दी नहीं लगती है। यह नाश्ते के रूप में अधिक खाया जाता है

ओट्स के फायदे :

उच्च रक्त चाप : ओट्स का सेवन करने से ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है और उच्च रक्त चाप की समस्या नहीं होती है।
मधुमेह : ओट्स में ग्लाइसेमिक कम मात्रा में पायी जाती है। यह मधुमेह रक्त चाप को रेगुलेट करता है। ओट्स में मौजूदा बीटा-ग्लूकॉन मधुमेह के मरीजों को रक्त चाप को कम करता है। इससे मधुमेह मरीजों को बहुत फायदा मिलता है।
इम्युनिटी के लिए : ओट्स में मौजूदा बीटा-ग्लूकॉन शरीर के इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करता है। शरीर को बीमारियों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है।
कैंसर : ओट्स में एंटी-आक्सीडेंट तत्व पाया जाता है। इसमें एंटी कैंसर का गुण होता है जो कैंसर के रोग से  शरीर को बचाने का काम करता है।
हृदय : ओट्स में विटामिन सी, एंटी-आक्सीडेंट और प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है। यह तत्व आक्सीकरण को रोकता है। जिससे ह्रदय की सुरक्षा होती है।
त्वचा : ओट्स त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। क्योंकि ओट्स में कई पोषक तत्व और एंटी आक्सीडेंट गुण होता है जो त्वचा को कोमल और सुंदर बनाता है।
तनाव : अत्यधिक चिंता में होने मस्तिष्क में तनाव (Stress) बढ़ता है। तनाव को दूर करने के लिए नियमित रूप से अपने आहार में ओट्स का सेवन करे।
आंत के लिए : ओट्स में अधिक फाइबर होता है। जो आंतो और मलाशय के लिए बहुत फायदेमंद होता है। उन व्यक्तियों को अधिक ओट्स का सेवन करना चाहिए जिन्हे कब्ज की समस्या है। सेवन करने से कब्ज की समस्या कम हो जाती है।

कौच बीज 

केंवाच की मुख्यतः दो प्रजातियां होती हैं। एक प्रजाति जो जंगलों में होती है। दूसरी प्रजाति की खेती की जाती है।जंगली केंवाच पर घने और भूरे रंग के बहुत अधिक रोएं होते हैं। अगर यह शरीर पर लग जाए तो बहुत तेज खुजली, जलन होने लगती है। इससे सूजन होने लगती है।
कौच बिज़ के फायदे: इसके फायदे, मस्तिष्क स्‍वास्‍थ्‍य के लिए , पुरुष बांझपन को दूर करने में , कामशक्ति (सेक्सुलअल स्टेमना) बढ़ाने के लिए ,बढ़ती उम्र को रोकने में , मासिक धर्म विकार में  , पेशाब से संबंधित रोग में ,लकवा (पक्षाघात) में , डायबिटीज में , किडनी विकार में और दस्त को भी नियंत्रित करता है |

आवला   

आंवला को आयुर्वेद में अमृतफल या धात्रीफल कहा गया है। वैदिक काल से ही आंवला (phyllanthus emblica) का प्रयोग औषधि के रूप में किया जा रहा है। आयुर्वेद में आंवले को बहुत लाभकारी बताया गया है. इसमें विटामिन-सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है |
आवला के फायदे : आंवला कोल्ड, कफ के अलावा शरीर में वायरल और बैक्टीरियल इंफेक्शन नहीं होने देता है. साथ ही इसमें ऐसे तत्व भी पाए जाते हैं जो कैंसर सेल्स से लड़ने का काम करते हैं.आंवला खून को साफ करता है, दस्त, मधुमेह, जलन की परेशानी में लाभ पहुंचाता है। इसके साथ ही यह जॉन्डिस, हाइपर-एसिडिटी, एनीमिया, रक्तपित्त (नाक-कान से खून बहने की समस्या), वात-पित्त के साथ-साथ बवासीर या हेमोराइड में भी फायदेमंद होता है।इम्यूनिटी और मेटाबॉलिज्म बढ़ाने का काम करता है. साथ ही रूखे और बेजान बालों को भी मजबूत बनता है |

गोखरू  

इसके पौधे जमीन पर छत्ते की तरह फैले रहते हैं | गोक्षुर के जड़ को दशमूल में और फल को वृष्य के रुप में प्रयोग करते है। इसके पत्ते चने के जैसे होते हैं। इसलिए संस्कृत में इसे चणद्रुम कहते हैं।और इसके फल छोटे, गोल, चपटे, पांच कोण वाले, 2-6 कंटक युक्त व अनेक बीजी होते हैं। गोखुर के गुण अनगिनत है। जिसके कारण ही यह सेहत और रोगों दोनों के लिए औषधि के रुप में काम करता है।
गोक्षुरा के फायदे: गोक्षुर या गोखरू वातपित्त, सूजन, दर्द को कम करने में सहायता करने के साथ-साथ, रक्त-पित्त(नाक-कान से खून बहना) से राहत दिलाने वाला, कफ दूर करने में , मूत्राशय संबंधी रोगों में तथा शक्तिवर्द्धक और स्वादिष्ट होता है। गोक्षुर का बीज ठंडे तासीर का होता है। इसके सेवन से मूत्र अगर कम हो रहा है वह समस्या दूर हो जाती है।जिससे आपका शरीर फिट और तंदुरुस्त रहता है |

मोरिंगा   

मोरिंगा को सहजन भी कहा जाता है. आमतौर पर लोग सहजन का प्रयोग केवल उसकी सब्जी बनाने के लिए करते हैं. बहुत कम लोगों को ये पता है कि मोरिंगा सेहत के लिए और भी कई तरीकों से फायदेमंद होता है. मोरिंगा में खूब सारा प्रोटीन, एमिनो एसिड, फाइबर, विटामिन A  B, C और E पाया जाता है.और साथ में कैल्शियम भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो एक निरोग बॉडी की आवश्यकता होती है  |

मोरिंगा के फायदे: मोरिंगा का उपयोग अस्थमा (asthma), मधुमेह (diabetes), मोटापा (Obesity), रजोनिवृत्ति के लक्षण (symptoms of menopause) और कई अन्य बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है। मोरिंगा के बीजों के तेल का उपयोग खाद्य पदार्थों, इत्र और बालों की देखभाल करने वाले उत्पादों में और मशीन लुब्रिकेंट के रूप में भी किया जाता है

पपाइन

जैसा की हम सब जानते है की पैपिन, पपीते से निकाला जाता है जो एक पाचक एंजाइम है. ये प्रोटीन को पचाने में मदद करता है और आंतों को साफ करता है. एक अच्छा पाचन तंत्र शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है, जिससे फैट कम होता है.

पपाइन के फायदे : यह पाचन क्रिया को सुधारने में भी काम आता है। इसके इस्तेमाल से पेट के कीड़े, गले और ग्रसनी की सूजन, दाद (herpeszoster) के लक्षण, दस्त,फीवर, नाक बहना और सोरायसिस (स्किन की एक स्थिति) को कम किया जा सकता है।

 

गिलोय   

गिलोय एक बहुवर्षिय लता होती है। इसके पत्ते पान के पत्ते की तरह होते हैं। आयुर्वेद में इसको कई नामों से जाना जाता है जैसे गुडुची, छिन्नरुहा, चक्रांगी, आदि। ‘बहुवर्षायु तथा अमृत के समान गुणकारी होने से इसका नाम अमृता भी है।आयुर्वेद में इसे रसायन माना गया है जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।गिलोय के पत्ते स्वाद में कसैले, कड़वे और तीखे होते हैं।

गिलोय के फायदे: गिलोय का उपयोग कर वात-पित्त और कफ को ठीक किया जा सकता है। यह पचने में आसान होती है, भूख बढ़ाती है, साथ ही आंखों के लिए भी लाभकारी होती है। आप गिलोय के इस्तेमाल से प्यास, जलन, डायबिटीज, कुष्ठ और पीलिया रोग में लाभ ले सकते हैं।

चिआ सीड्स    

Chia plant एक फूलदार पौधा होता है जो कि पुदीने के पौधे की तरह होता है, इसी पौधे के बीज को चिया सीड्स कहते हैं।  चिया बीज एक बहुत छोटे बीज हैं, जो काले और सफेद रंग के होते हैं। मूल रूप से मैक्सिको में उगाए जाने वाले पौधे साल्विया हेस्पेनिका के एक खाद्य बीज, चिया बीज एक पोषक तत्व-घना घटक है।
चिआ सीड्स के फायदे: चिया के बीज में 18% आरडीआई कैल्शियम पाया जाता है जोकि हमारे शरीर के महत्वपूर्ण अंग हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाता है। साथ ही चिआ सीड्स हृदय संबंधित रोगों में लाभकारी होता है , पाचनतंत्र को मजबूत बनाता है ,शरीर को energetic बनाता है और immune system को भी मजबूत बनाता है।

इसके अतिरिक्त इसमें सिंघाड़ा, शतावरी, काली मूसली, कालातिल, हरितिका, बिभितिका, सौंफ एवं गिलोय है।

सेहत सुल्तान कौनकौन ले सकता है

जो लोग शरीर से दुबले पतले है, खाया पिया शरीर को नहीं लगता ,है पाचनक्रिया हमेशा ख़राब रहता है, भूख काम लगती है, उसके लिए ये बहुत ही खास है इसके आलावा अगर किसी का वजन ठीक है लेकिन कमजोरी  फील करते है या काम करने में  थकावट होती है या कोई अपना हेल्थ और बूस्ट करना चाहते है अपना इम्युनिटी को स्ट्रांग करना चाहते है तो वो भी ले सकते है, इसे लेने के बाद अलग से कोई इम्युनिटी बढ़ाने की दवा लेने की आवश्यकता नहीं होगी,,,  तो आप इसे एक बार जरूर try  करें और अपने शरीर की किसी भी कमजोरी को हमेशा के लिए भूल जाइये

सेहत सुल्तान कौन कौन नहीं  ले सकता है

कुछ विशेष परिस्थिति में सेहत सुल्तान लेने की सलाह नहीं दी जाती है जैसे कोई भी अगर कोई बड़ी बिमारी से ग्रसित है टीबी, दमा, दौरे, बीपी शुगर पथरी कैंसर पीलिया जलोधर टाइफाइएड एक साल के अंदर कोई छोटा बड़ा ऑपरेशन हुआ है महिला प्रगनेंसी में है या बच्चे को दूध पिलाती है इन सभी परिशतियों में सेहत सुल्तान या हमारा कोई भी प्रोडक्ट दवाई लेने से पहले अपने चिकित्सक से इसके बारे में सलाह जरूर ले |

सेहत सुल्तान सेवन करने/खाने का तरीका

एक गिलास दूध में एक चाय चमच के बराबर मात्रा में सेहत सुल्तान पाउडर सुबह शाम खाना खाने के आधे घंटे बाद दूध नहीं रहने की स्थिति में एक कप/आधे गिलास गुनगुने पानी के साथ ले सकते है |
इसे आर्डर करके मंगवाने का तरीका बिलकुल आसान है स्क्रीन पर दिख रहे नंबर पर कॉल या व्हाट्सप्प कर लीजिये या लिंक है वहां से बूक कर लीजिये

सेहत सुल्तान साइड  इफ़ेक्ट

जैसा की ऊपर बताया जा चूका है की मानव हर्बल्स 100% विशुद्ध सबसे उच्च कोटि के गुणवत्ता वाली आयुर्वेदिक दवाई के लिए ही काम करती है और हिंदुस्तान का बच्चा-बच्चा जनता है कि इस तरह की शुद्ध आयुर्वेदिक दवाइयां को उचित मात्रा में एक्सपर्ट कि सलाह में लेने से कोई भी नुकसान या दुष्प्रभाव नहीं करती है | हालाँकि मार्केट में बहुत सारे कंपनियां आयुर्वेद के नाम पर बड़े बड़े बाते और दावे करके अपनी जेब भरने के चाकर में एलोपैतिक   और Steoride मिलाकर बेचते है   जिसके वजह से लोगो आयुर्वेद पर भी कभी कभी कन्फ्यूज्ड हो जाते है/ जो लोग अच्छा काम कर रहे है उनपर भी शक करते है ?

दुबारा वजन/सेहत गिर क्यों जाता है  ?

बहुत सरे लोगों का फ़ोन और मैसेज आते है जिसमे सबसे ज्यादा सवाल यह होता है की एक बार सेहत बनने के बाद दुबारा फ़ीर  से डाउन हो जाती है तो इस बात को मै क्लियर कर देता हूँ की इसका रीज़न  क्या होता है तो इसका सिर्फ दो ही रीज़न है पहला कारन होता है की जो लोग स्टेरॉयड वाली मेडिसिन  या सप्लीमेंट से बॉडी बनाते है चाहे वो आयुर्वेद के नाम पर ही क्यों ना  दिया गया हो मतलब आयुर्वेदिक दवा के नाम पर उसमे मिलावट किया गया हो  उनका तो दुबारा सेहत गिरना लाजमी है क्यूंकि इस त रह के कंटेंट बॉडी को डायरेक्ट फुला देती और उसको छोड़ने के बाद जैसे ही उसका गैस ख़तम होता है की दुबारा बॉडी की हालत पहले से भी ज्यादा चिंता जनक हो जाती है दूसरी वजह होती है अगर अपने किसी नेचुरल तरीके से अपना शरीर का वजन बढ़ा भी लिया लेकिन बाद में उसको मेन्टेन नहीं कर पातें  यानी की अपनी डाइट और सेहत पर बिलकुल सीरियस नहीं रहते है, क्यूंकि  शरीर का सेहत हो या घर वाली दोनों को अगर ध्यान नहीं देंगे तो कहीं और चली जाती है

दुबारा सेहत/वजन  कभी ना कम हो इसके लिए क्या करें

तो 14 दुर्लभ और शुद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों और  2 नेचुरल प्रोटीन सोर्स से तैयार सेहत सुल्तान का कोर्स पूरा कर लीजिये,  ऊपर बताये गए छोटी मगर काफी महत्वपूर्ण बात को समझिये और इसको सीरियसली लीजिये और बातों का हमेशा ध्यान रखिये अपने सेहत का आपको मै चैलेंज देता हूँ आपका सेहत कभी नहीं गिरेगी

सेहत/वजन ना बढ़ने का कुछ अन्य कारन 

  • हाइपो थाइरोइड
  • सही भोजन/ पोषण की कमी
  • ख़राब जीवनशैली

तो एक बार इन कारणों पर भी गौर और जाँच जरूर  कर लें

5 चीज़ें  सेहत के लिए जरूर करें

1.  4 -6  केले रोज खाएं

2. रात को खाने के आधे घंटे बाद एक गिलास गाय या भैंस का दूध में एक चमच शहद मिलकर पियें

3. रोज आधे से एक घंटे एक्सरसाइज या योग करें

4. एक दिन में 8 -10  गिलास पानी पियें

5. रात के खाने के बाद 15 मिनट्स जरूर टहलें

6. 8 घंटे का भरपूर गहरी नींद लें

5 चीज़ें सेहत के लिए कभी ना करें

1. किसी भी तरह के नसा करने से से बचें

2. देर रात तक खाना खाने से बचें

3. बाहर की जंक फ़ूड फ़ास्ट फ़ूड कोल्ड ड्रिंक को खाने/पिने से बचें   को

4. डिप्रेशन से बचें

5. नियमित योग एक्सरसाइज जरूर करें

सेहत सुल्तान मंगवाने का तरीका

सेहत सुल्तान मंगवाना बहुत ही असान है, आप हमारे कस्टम केयर नंबर पर कॉल या व्हाट्सप्प करके या Book Now लिंक पर क्लिक करके आर्डर करें |
Book Now

English Description

Sehat Sultaan An Introduction
Main reason for poor health
With time, if the person’s body is not fully developed, then the worries increase. Health starts worrying, especially those who are thin since childhood. Health benefits are very special for those thin people who lose their weight. And have made a lot of efforts to increase the personality, are already following many measures and diet, or even after doing your weight is not increasing or have eaten any product or supplements to gain weight and after gaining weight falls down again. If yes, all these problems are due to weak digestion and immunity and the main reason for poor digestion and immunity is modern lifestyle and eating habits. The health of the old people was not so weak because their whole diet and lifestyle were friendly to nature. By using the medicines and supplements of the market, due to which this problem becomes more complicated, due to all these reasons, the complete digestion becomes sluggish and weak, gas in the stomach, constipation always starts to upset the stomach. I don’t know, after eating any strong things, it gives the opposite result, the body looks lean, thin, weak, every time people around make jokes, job becomes a hindrance in career. So the reasons for having all these problems Keeping this in mind, the Pharmacist team of Manav Herbals has created Sehat Sultaan through research.

How does Sehat Sultaan work?
By consuming it, after removing all the errors of the complete digestion, all the nutrients of the food eaten, the body starts getting new blood, the strength increases, the weight increases and the personality gets enhanced.

Sehat Sultaan Main Ingredients are as:

Ashwagandha (1200 mg)

The use of Ashwagandha for treatment in Ayurveda is not new today, it has been in use since ancient times, it is a very effective medicine. For the past many thousands of years, Ashwagandha has been used for many serious diseases. Experts of Ayurveda have given much such information while telling about Ashwagandha, which hardly anyone knows. Ashwagandha is used to overcome many physical problems.
Benefits of Ashwagandha: Ashwagandha contains antioxidants, liver tonic, anti-inflammatory, anti-bacterial as well as many other types of nutrients that help in keeping your body healthy. It also has anti-stress properties which help in relieving stress. Apart from this, consuming it by mixing it with ghee or milk helps in increasing weight rapidly. It also protects against cholesterol, diabetes and cancer.

Safed Musli (800mg)

Safed musli is considered a powerful herb, hence it is widely used as a medicine in Ayurveda. The root and seeds of Safed Musli, especially as a medicine, are very beneficial. Carbohydrate, protein, fiber, calcium, potassium, magnesium, etc. are found in abundance in its roots.
Benefits of Sweta Musli: Generally, Safed Musli is used more for sex-related problems, but apart from this, Safed Musli is also used prominently in the treatment of diseases like arthritis, cancer, diabetes, impotence, etc. and to remove physical weakness. This is the most popular Ayurvedic medicine to remove weakness. Nutrients like carbohydrates, proteins, fiber, saponins and minerals like calcium, potassium, magnesium, etc. are found prominently in its roots.

Oats (1600 mg)

Oats are a cereal grain. Which is like seeds, which is also called porridge. Earlier, oats were eaten only by animals. But over the years, oats were tested by scientists and made edible. Among the essential nutrients available are fiber, riboflavin, vitamin B6, protein, magnesium, calcium, iron, phosphorus, selenium, etc. It contains a high amount of fiber which is easily soluble in water. It fills the stomach easily. Due to this hunger is not felt soon. It is mostly eaten as a snack.
Benefits of Oats:

High blood pressure: By consuming oats, blood pressure remains under control and there is no problem with high blood pressure.

Diabetes: Oats have low glycemic levels. It regulates diabetic blood pressure. The beta-glucan present in oats lowers blood pressure in diabetic patients. This is of great benefit to diabetics.
For immunity: The existing beta-glucan in oats helps in boosting the immunity of the body. Gives the body the power to fight diseases.
Cancer: Anti-oxidant element is found in oats. It has anti-cancer properties that work to protect the body from cancer.
Heart: Oats contain vitamin C, anti-oxidants and abundant fiber. This element prevents oxidation. Which protects the heart.
Skin: Oats are very beneficial for the skin. Because oats have many nutrients and anti-oxidant properties which make the skin soft and beautiful.
Stress: Being in excessive worry increases stress in the brain. To overcome stress, eat oats in your diet regularly.
For Intestine: Oats contain more fiber. Which is very beneficial for the intestines and rectum. Those people who have problems with constipation should consume more oats. Constipation reduces by taking it.
To lose weight: Oats contain a high amount of protein. Eating this does not make you feel hungry. Due to this, the weight remains under control.

Couch Beej (720 mg)

There are mainly two species of cauch seed – kervach. A species that occurs in forests. The second species is cultivated. There are thick and brown furrows on the forest cover. If it gets on the body, then there is a lot of itching and burning. This causes swelling.
Benefits of Couch Biz: Its benefits, for brain health, in removing male infertility, for increasing sexual stamina, in preventing aging, in menstrual disorders, in urinary diseases, paralysis (paralysis) ), in diabetes, in kidney disorders and also controls diarrhea.

Amla (800 mg)

Amla is called Amrutphal or Dhatriphal in Ayurveda. Amla (Phyllanthus Emblica) is being used as a medicine since Vedic times. Amla is said to be very beneficial in Ayurveda. Vitamin-C is found in abundance in it.
Benefits of Amla: Amla does not allow viral and bacterial infections in the body apart from cold, phlegm. Along with this, such elements are also found in it which work to fight cancer cells. Amla purifies the blood, benefits in the problem of diarrhea, diabetes, burning. Along with this, it is also beneficial in jaundice, hyper-acidity, anemia, raktapitta (bleeding problem from nose-ear), vata-pitta as well as piles or hemorrhoids. Works to increase immunity and metabolism. It also strengthens dry and lifeless hair.

What is bunion (480 mg)

Its plants are spread like a honeycomb on the ground. The root of Gokshura is used in the form of Dashmool and the fruit is used in the form of Vrishya. Its leaves are like gram. That’s why in Sanskrit it is called Chandrum. And its fruits are small, round, flat, five-angled, with 2-6 thorns and many seeds. The properties of bunions are innumerable. Due to which it works as a medicine for both health and diseases.
Benefits of Gokshura : Gokshura or gokhru helps in reducing vatapitta, swelling, pain, relieves from rakta-pitta (bleeding from nose-ear), removes phlegm, in urinary diseases and is potent and tasty. . Gokshur seed is of cold effect. If urine is decreasing by its consumption, that problem goes away. Due to which your body remains fit and healthy.

What is Moringa (240 mg)

Moringa is also known as Drumstick. Usually people use drumstick only to make its vegetable. Very few people know that Moringa is beneficial for health in many other ways. A lot of protein, amino acids, fiber, vitamins A, B, C and E are found in Moringa. Along with this, calcium is also found in abundance which a healthy body needs.
Benefits of Moringa: Moringa is used to treat asthma, diabetes, obesity, symptoms of menopause, and many other diseases. Moringa seed oil is used in foods, perfumes and hair care products, and also as a machine lubricant.

Papain (240 mg)

As we all know that papain is extracted from papaya which is a digestive enzyme. It helps in digesting proteins and cleans the intestines. A good digestive system increases the metabolism of the body, thereby reducing fat.
Benefits of papain : It also helps in improving digestion. It can be used to reduce stomach worms, inflammation of the throat and pharynx, herpeszoster symptoms, diarrhoea, fever, runny nose and psoriasis (a skin condition).

Giloy (240 mg)

Giloy is a multi-year vine. Its leaves are like betel leaves. It is known by many names in Ayurveda like Guduchi, Chinnaruha, Chakraangi, etc. It is also named Amrita because of its multi-year and nectar-like properties. In Ayurveda, it is considered a chemical that is good for health. Giloy leaves are astringent, bitter and pungent in taste.
Benefits of Giloy: Vata-pitta and Kapha can be cured by using Giloy. It is easy to digest, increases appetite, as well as is beneficial for the eyes. You can take advantage of the use of Giloy in thirst, burning, diabetes, leprosy and jaundice.

Chia seeds (800 mg)

Benefits of Chia Seeds: Chia seeds contain 18% of the RDI calcium, which strengthens bones and teeth, an important part of our body. In addition, chia seeds are beneficial in heart-related diseases, strengthen the digestive system, make the body energetic and also strengthen the immune system.

Apart from this, it has water chestnut, Shatavari, Kali Musli, Kalatil, Haritika, Bibhitika, Fen

Who can take Sehat Sultaan?
It is very special for those people who are thin, eat and drink, the body does not feel, the digestive system is always bad, the appetite is working, apart from this, if someone’s weight is fine but feels weakness or works. I am tired or someone wants to boost their health and want to strengthen their immunity, then they can also take it, after taking it, there will be no need to take any medicine to increase immunity separately, then you can take this one. Do try once and forget any weakness of your body forever.

Who can not take Sehat Sultaan?
In some special circumstances, it is not advisable to take health care, such as if anyone is suffering from a major disease like TB, asthma, seizures, BP, sugar, stone, cancer, jaundice, ascites, typhoid, there has been a small operation within a year. The woman is in pregnancy. Or feeds the child, improves health in all these conditions or any of our products, before taking any medicine, please consult your doctor about it.

Sehat Sultaan benefits
Sehat Sultaan powder in a glass of milk, equal to one teaspoon, can be taken with a cup/half glass of lukewarm water in the morning and evening after half an hour of having food, in case there is no milk.
The way to order it is very easy, just call or WhatsApp on the number shown on the screen or there is a link and do a booker from there.

Sehat Sultaan Side Effects
As mentioned above, Manav Herbals works only for 100% pure top quality ayurvedic medicine and every child of India knows that such pure ayurvedic medicines should be taken in proper quantity under expert advice. Does not cause any harm or side effect by taking. However, many companies in the market sell Allopathic and Steoride in the name of Ayurveda by making big claims and claiming to fill their pockets, due to which people sometimes get confused on Ayurveda too Doubt too?

Why does weight/health fall again?
Many people get calls and messages, in which the most question is that once the health becomes down again, then I clear this thing that what is its reason, then it is only two. The reason is the first reason is that people who make a body with steroid medicine or supplements, even if it is not given in the name of Ayurveda, means it has been adulterated in the name of Ayurvedic medicine, their health is bound to fall again because this The content would inflate the body directly and after leaving it, as soon as its gas ends, the condition of the body again becomes more worrying than before, the second reason is if you increase your body weight in any natural way. Took it too but can’t maintain it later, that is, they are not at all serious about their diet and health, because if you do not pay attention to both the health of the body or the family, then they go somewhere else.
What to do to never lose health/weight again, then complete the course of Sehat Sultaan prepared from 14 rare and pure Ayurvedic herbs and 2 natural protein sources, understand the small but very important thing mentioned above and take it seriously and Always take care of things, I challenge you for your health, your health will never fall.

Some other reasons for not gaining weight
Hypothyroid
Lack of proper food/nutrition
Bad lifestyle
So once consider these reasons also and check it.

5 things you must do for health
1) Eat 4 -6  bananas daily,
2) Drink a glass of cow or buffalo milk mixed with one spoon of honey after half an hour of dinner.
3) Do exercise or yoga for half an hour every day
4) Drink 8 -10  glasses of water in a day
5) Take a walk for 15 minutes after dinner
6) Get 8 hours of sound sleep

5 things never to do for health
1) Avoid doing any kind of nasha
2) Avoid eating late at night
3) Avoid eating/drinking outside junk food fast food cold drinks
4) Avoid depression

How to get Sehat Sultaan
Ordering Sehat Sultaan is very easy, you can order by calling or WhatsApp on our customer care number or by clicking on the Book Now link.

Book Now

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “SEHAT SULTAAN/सेहत सुल्तान”

Your email address will not be published. Required fields are marked *